अध्याय 14 : प्रकृति के तीन गुण
 
श्लोक 14.4



सर्वयोनिषु कौन्तेय मूर्तयः सम्भवन्ति याः |
तासां ब्रह्म महद्योनिरहं बीजप्रदः पिता || ४ ||
 
 
 

सर्व-योनिषु – समस्त योनियों में; कौन्तेय – हे कुन्तीपुत्र; मूर्तयः – स्वरूप; सम्भवन्ति – प्रकट होते हैं; याः – जो; तासाम् – उन सबों का; ब्रह्म – परम; महत् योनिः – जन्म स्त्रोत; अहम् – मैं; बीज-प्रदः – बीजप्रदाता; पिता – पिता |
 

भावार्थ

 
हे कुन्तीपुत्र! तुम यह समझ लो कि समस्त प्रकार की जीव-योनियाँ इस भौतिक प्रकृति में जन्म द्वारा सम्भव हैं और मैं उनका बीज-प्रदाता पिता हूँ |
 
तात्पर्य



इस श्लोक में स्पष्ट बताया गया है कि भगवान् श्रीकृष्ण समस्त जीवों के आदि पिता हैं | सारे जीव भौतिक प्रकृति तथा आध्यात्मिक प्रकृति के संयोग हैं | ऐसे जीव केवल इस लोक में ही नहीं, अपितु प्रत्येक लोक में, यहाँ तक कि सर्वोच्च लोक में भी, जहाँ ब्रह्मा आसीन हैं, पाये जाते हैं | जीव सर्वत्र हैं – पृथ्वी, जल तथा अग्नि के भीतर भी जीव हैं | ये सारे जीव माता भौतिक प्रकृति तथा बीजप्रदाता कृष्ण के द्वारा प्रकट होते हैं | तात्पर्य यह है कि भौतिक जगत् जीवों को गर्भ में धारण किये है, जो सृष्टिकाल में अपने पूर्वकर्मों के अनुसार विविध रूपों में प्रकट होते हैं |

sloka 14.3                                                                                                 sloka 14.5