अध्याय 14 : प्रकृति के तीन गुण
 

श्लोक 14.21


अर्जुन उवाच |


कैर्लिङ्गैस्त्रीन्गुणानेतानतीतो भवति प्रभो |
किमाचारः कथं चेतांस्त्रीन्गुणानतिवर्तते || २१ ||
अर्जुनःउवाच – अर्जुन ने कहा; कैः – किन; लिङगैः – लक्षणों से; त्रीन् – तीनों; गुणान् – गुणों को; एतान् – ये सब; अतीतः – लाँघा हुआ; भवति – है; प्रभो – हे प्रभु; किम् – क्या; आचारः – आचरण; कथम् – कैसे; – भी; एतान् – ये; त्रीन् – तीनों; गुणान् – गुणों को; अतिवर्तते – लाँघता है |

भावार्थ


 

अर्जुन ने पूछा – हे भगवान्! जो इन तीनों गुणों से परे है, वह किन लक्षणों के द्वारा जाना जाता है ? उसका आचरण कैसा होता है ? और वह प्रकृति के गुणों को किस प्रकार लाँघता है ?



तात्पर्य

इस श्लोक में अर्जुन के प्रश्न अत्यन्त उपयुक्त हैं | वह उस पुरुष के लक्षण जानना चाहता है, जिसने भौतिक गुणों को लाँघ लिया है | सर्वप्रथम वह ऐसे दिव्य पुरुष के लक्षणों के विषय में जिज्ञासा करता है कि कोई कैसे समझे कि उसने प्रकृति के गुणों के प्रभाव को लाँघ लिया है ? उसका दूसरा प्रश्न है कि ऐसा व्यक्ति किस प्रकार रहता है और उसके कार्यकलाप क्या हैं ? क्या वे नियमित होते हैं, या अनियमित? फिर अर्जुन उन साधनों के विषय में पूछता है, जिससे वह दिव्य स्वभाव (प्रकृति) प्राप्त कर सके | यह अत्यन्त महत्त्वपूर्ण है | जब तक कोई उन प्रत्यक्ष साधनों को नहीं जानता, जिनसे वह सदैव दिव्य पद पर स्थित रहे, तब तक लक्षणों के दिखने का प्रश्न ही नहीं उठता | अतएव अर्जुन द्वारा पूछे गये ये सारे प्रश्न अत्यन्त महत्त्वपूर्ण हैं और भगवान् उनका उत्तर देते हैं |

sloka 14.20                                                                                       sloka 14.22-25