अध्याय 14 : प्रकृति के तीन गुण
 
श्लोक 14.13



अप्रकाशोSप्रवृत्तिश्र्च प्रमादो मोह एव च |
तमस्येतानि जायन्ते विवृद्धे कुरुनन्दन || १३ ||
 
 
 
अप्रकाशः – अँधेरा; अप्रवृत्तिः – निष्क्रियता; – तथा; प्रमादः – पागलपन; मोहः – मोह; एव – निश्चय ही; – भी; तमसि – तमोगुण; एतानि – ये; जायन्ते – प्रकट होते हैं; विवृद्धे – बढ़ जाने पर; कुरु-नन्दन – हे कुरुपुत्र |

भावार्थ


 

जब तमोगुण में वृद्धि हो जाती है, तो हे कुरुपुत्र! अँधेरा, जड़ता, प्रमत्तता तथा मोह का प्राकट्य होता है |



तात्पर्य

 

जहाँ प्रकाश नहीं होता, वहाँ ज्ञान अनुपस्थित रहता है | तमोगुणी व्यक्ति किसी नियम में बँधकर कार्य नहीं करता | वह अकारण ही अपनी सनक के अनुसार कार्य करना चाहता है | यद्यपि उसमें कार्य करने की क्षमता होती है, किन्तु वह परिश्रम नहीं करता | यह मोह कहलाता है | यद्यपि चेतना रहती है, लेकिन जीवन निष्क्रिय रहता है | ये तमोगुण के लक्षण हैं |

sloka 14.12                                                                                              sloka 14.14