अध्याय 13 : प्रकृति, पुरुष तथा चेतना
 
श्लोक 13.27


यावत्सञ्जायते किञ्चित्सत्त्वं स्थावरजङ्गमम् |
क्षेत्रक्षेत्रज्ञसंयोगात्तद्विद्धि भरतर्षभ || २७ ||
 
 
यावत् – जो भी ; सञ्जायते – उत्पन्न होता है; किञ्चित् – कुछ भी; सत्त्वम् – अस्तित्व; स्थावर – अचर; जङगमम् – चर; क्षेत्र – शरीर का; क्षेत्र-ज्ञ – शरीर ; संयोगात् – संयोग (जुड़ने) से; तत् -विद्धि – तुम उसे जानो; भरत-ऋषभ – हे भरतवंशियों में श्रेष्ठ ।

भावार्थ

हे भरतवंशियों में श्रेष्ठ! यह जान लो कि चर तथा अचर जो भी तुम्हें अस्तित्व में दीख रहा है, वह कर्मक्षेत्र तथा क्षेत्र के ज्ञाता का संयोग मात्र है ।
 

 

तात्पर्य

इस श्लोक में ब्रह्माण्ड की सृष्टि के भी पूर्व से अस्तित्व में रहने वाली प्रकृति तथा जीव दोनों की व्याख्या की गई है । जो कुछ भी उत्पन्न किया जाता है, वह जीव तथा प्रकृति का संयोग मात्र होता है । वृक्ष, पर्वत आदि ऐसी अनेक अभिव्यक्तियाँ हैं, जो गतिशील नहीं हैं । इनके साथ ही ऐसी अनेक वस्तुएँ हैं, जो गतिशील हैं और ये सब भौतिक प्रकृति तथा परा प्रकृति अर्थात् जीव के संयोग मात्र हैं । परा प्रकृति, जीव के स्पर्श के बिना कुछ भी उत्पन्न नहीं हो सकता । भौतिक प्रकृति तथा आध्यात्मिक प्रकृति का सम्बन्ध निरन्तर चल रहा है और यह संयोग परमेश्र्वर द्वारा सम्पन्न कराया जाता है । अतएव वे ही पर तथा अपरा प्रकृतियों के नियामक हैं । अपरा प्रकृति उनके द्वारा सृष्ट है और परा प्रकृति उस अपरा प्रकृति में रखी जाती है । इस प्रकार सारे कार्य तथा अभिव्यक्तियाँ घटित होती हैं ।

 

sloka 13.26                                                                                   sloka 13.28